भगवान सूर्य की महिमा और रोचक जानकारियाँ

हिन्दू धर्म में विविधता है , यहा देवी देवता भी बहुत से है | इन्ही में से एक देवता है सूर्य देव जो साक्षात दर्शन देते है और व्यक्ति , पेड़ पौधो और जानवरो को जीवन प्रदान करते है | अन्धकार को दूर करने वाले और रोशनी देने वाले सूर्य देवता के बिना किसी का भी जीवन अपूर्ण है | वेदो और पुराणों में सूर्य देव की महिमा को विस्तार से बताया गया है |


इनका विश्व प्रसिद्ध सूर्य मंदिर कोणार्क में है |
कौन है सूर्य भगवान

कैसे हुआ भगवान सूर्य का जन्म ?

एक बार देवता और दानवो के युद्ध में देवता पराजित हो गये थे | देव माता अदिति बहुत उदास हुई और उन्होंने तब  देवताओ के स्वर्ग वापसी के  लिए घोर तपस्या की , उन्हें वरदान मिला की भगवान् सूर्य उन्हें विजय दिलवाएंगे और वे अदिति के पुत्र रूप में जल्द ही अवतार लेंगे | समय आने पर सूर्य देवता का जन्म हुआ और उन्होंने देवताओ को असुरो पर विजय दिलवाई |


सूर्य के माता पिता और परिवार

भगवान सूर्य के पिता का नाम महर्षि कश्यप थे  और उनकी माँ अदिति थी  | अदिति के गर्भ से जन्म लेने के कारण इनका नाम आदित्य भी पड़ा | इनके जयकारे और आरती में कश्यप नंदन भी आता है |

सूर्य की पत्नी और पुत्र पुत्रियाँ :

भगवान सूर्य की दो पत्नियाँ बताई गयी है एक संज्ञा और दूसरी छाया | इनके पुत्र मृत्यु के देवता यमराज और शनिदेव जी है जिन्हें मनुष्यों के ऊपर न्याय के लिए कार्य दिया गया है | इनके अलावा यमुना, तप्ति, अश्विनी तथा वैवस्वत मनु भी सूर्य की ही संताने है | मनु को पहला मनुष्य माना जाता है |

यह भी पढ़े : शनिदेव क्यों नाराज हुए अपने पिता से 

सूर्य देवता की सवारी – सात घोड़ो वाला रथ

भगवान सूर्य का वाहन सात  घोड़ो वाला एक रथ है जिसके सारथी अरुण देव है | सूर्य देवता इस रथ में सवार है और सम्पूर्ण जगत में प्रकाश फैला रहे है |

क्यों सूर्य देवता के रथ में सात ही घोड़े है ?
भगवान सूर्य देवता महिमा
मान्यता है की यह घोड़े 7 इसलिए है की यह सप्ताह के सात दिनों को दर्शाते है | दूसरा तर्क यह भी है की ये रथ के प्रत्येक घोड़े एक अलग रंग वाले है जो मिलकर एक पूरा  सात रंगों वाला इन्द्रधनुष की रचना करते है |

कैसे करे सूर्य देवता की पूजा :

हमारे धर्मग्रंथो में बताया गया है की सुबह सूर्योदय से पूर्व उठ कर हमें नित्य कार्यो को संपन्न करके भगवान सूर्य की उपासना करनी चाहिए | सूर्य उपासना के बहुत सारे लाभ है | फिर आप भगवान सूर्य को जल से अर्ध्य दे | फिर सूर्य के 21 नाम पढ़े और उनसे अच्छे दिन की मनोकामना मांगे |


मुख्य त्यौहार

भगवान सूर्य के पूजन के लिए सबसे बड़ा दिन मकर संक्रांति का माना गया है | इस दिन गंगा सागर तीर्थ यात्रा पर लाखो भक्त मेले में शामिल होते है | देश के अन्य तीर्थ स्थल  जैसे  काशी (वाराणसी ) , त्रिवेणी संगम,  हरिद्वार , पुष्कर , उज्जैन की शिप्रालोहार्गल आदि तीर्थ स्थलों पर भारी संख्या में श्रद्धालु स्नान करते है और भगवान सूर्य को जल से अर्ध्य देते है |

Other Religious Posts

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.