झंडेवाली माँ मंदिर दिल्ली

झंडेवाली माँ मंदिर

झंडेवाली माँ का मंदिर दिल्ली में है और भक्तो में प्रसिद्द है | दूर दूर से भक्त माँ के दर्शन करने और परम लौकिक शांति पाने आते है | कहते है इस पावन जगह पर शांति की गंगा बहती है | आप कितनी भी परेशानियों में हो , माँ के इस आँगन में आकर आपको सुकून मिलता है | अत्यधिक श्रद्धालुओं की भीड़ इस मंदिर में नवरात्रि के दिनों में देश भर से उमड़ती है |झंडेवाली माँ मंदिर दिल्ली
कहाँ है यह मंदिर स्थित :

यह झंडे वाली माँ का मंदिर दिल्ली में झंडेवालान   व पहाड़गंज  के बीच है | इस मंदिर का विकास इसके बनने के बाद लगातार चल रहा है | यहा का वातावरण प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर  शांत और रमणीय है जो की परम शांति का प्रतीक है |

क्यों कहते है इन्हे झंडेवाली माँ :

यह मंदिर महान भक्त बद्रीदास द्वारा बनाया गया था | उन्होंने मंदिर के शिखर पर एक ऊँचा झंडा लहरवाया जिससे की दूर से भी भक्त माँ के इस मंदिर के होने को देख सके | धीरे धीरे इसी झंडे को देखकर बहुत भक्त इस मंदिर में आने लगे और समय के साथ यह मंदिर विख्यात हो गया झंडे वाली माँ के नाम से |

झंडेवाली माँ के मंदिर बनाने का कारण :

बहुत साल पहले यही एक दानवीर व्यापारी हुए जिनका नाम बद्रीदास था | वे माँ वैष्णो के परम भक्त थे | वे अमीर होने के साथ साथ दीन दुखियो की सेवा करने वाले अनन्य भक्त थे | उनके अच्छे गुणों के कारण लोग उन्हें बद्री भक्त कह कर पुकारते थे |


एक बार वे इस परम शांति वाली हरियाली जगह पर साधना कर रहे थे | उन्हें आभास हुआ की इस जगह कोई माँ का मंदिर जमीन के अन्दर दबा हुआ है | शायद यह उनकी भक्ति का चमत्कार था की उन्हें यह आभास हुआ | उन्होंने उस जगह की खुदाई कराई | खुदाई में माँ की एक अति प्राचीन मूरत मिली पर उनके हाथ खंडित हो गये थे | बद्रीदास जानते थे की इस खंडित मूरत की पूजा नही हो सकती और देवी माँ चाहती भी है उनकी पूजा इस रूप में हो | इसलिए उन्होंने उस खंडित मूरत हो वही एकग गुफा में रहने दिया और उसके ऊपर एक नव मंदिर का निर्माण करके देवी माँ की नयी मूर्ति की विधि पूर्वक प्राण-प्रतिष्ठा करवाई | माँ के हाथ चांदी के के लगाये गये है क्योकि मूरत के हाथ खंडित थे |  उन्होंने माँ से विनती की वो प्राचीन खंडित मूर्ति की सभी शक्तियाँ नयी मूर्ति भी भर दे | इस तरह यह मंदिर बना और आज भी बद्री भक्त के वंशज इस मंदिर में सेवक के रूप में कार्य करते है |


यह भी जरुर पढ़े

हिन्दू मंदिरों से जुड़े चमत्कार पढ़े

यह शिवजी की होती है स्त्री के रूप में पूजा कहलाते है लिंगाई माता

लकवे का ईलाज करने वाली माँ करती है अग्नि से स्नान

इस मंदिर में ना ही कोई फोटो ना ही कोई मूर्ति – बस एक यन्त्र उसकी भी पूजा आँख बंद करके

नाचने वाले हनुमानजी का मंदिर

कल्कि अवतार को होने में अभी हजारो साल पर बन चूका है उनका पहला मंदिर

भारत के मुख्य तांत्रिक स्थल जहा होती है तांत्रिक साधनाए

कही आपको पितृ दोष तो नही जाने कैसे करे इसे दूर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.