चक्रतीर्थ सरोवर में गिरा था ब्रह्मा द्वारा रचित चक्र

धर्म तप के लिए सबसे पवित्र तीर्थ भारत भूमि सतयुग से ऋषि-मुनियों की धरती कहलाती  है। हर युग में देवताओ ने यहा अवतार लेकर इस भूमि को पावन किया है | यहा पवित्र नदियाँ और धार्मिक पर्वत उत्तर से दक्षिण तक फैले हुए है | यहा हर क्षेत्र में आपको तीर्थ स्थल मिल जायेंगे । हिन्दू सनातन धर्म वेदों और […]

Read more

चार धाम यात्रा 2018 – कब खुलेंगे कपाट

कब खुलेंगे चार धाम मंदिरों के कपाट 2018 आइये जानते है की भारत के उत्तराखंड के चार धाम की यात्रा 2018 में कब से शुरू हो रही है | यह चारो धाम दुर्गम जगह पर है अत: हर साल ये यात्राये सिर्फ छ माह के लिए ही चालू की जाती है | उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में बसे ये चारो […]

Read more

व्यास पोथी – इस स्थान पर वेद व्यास जी ने गणेश जी से महाभारत लिखवाई थी

व्यास पोथी जहा लिखी गयी महाभारत उत्तराखंड की पवित्र देव भूमि कई प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बने हुए है जो भक्तो की आस्था के रंग से हिन्दू पवित्र स्थानों में सुसज्जित है | उत्तर के चार धाम जैसे बद्रीनाथ , केदारनाथ , गंगोत्री और यमुनोत्री इसी राज्य में है | इसी स्थान पर  पांडवो द्वारा स्थापित चमत्कारी लाखामंडल शिवलिंग , मरे […]

Read more

नैमिषारण्य पवित्र भूमि तीर्थ स्थान Naimisaranya Tirtha

Naimisaranya Tirtha In Sitapur UttarPardesh उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ से सीतापुर 92 किमी की दुरी पर  स्थित है , यही है वह ऋषि और पवित्र  भूमि जहा महा पुराण लिखे गये है , नाम है नैमिषारण्य | नैमिषारण्य सतयुग काल से प्रसिद्ध है।  इस पवित्र स्थान पर जाकर लोग अपने पाप से मुक्त हो जाते हैं ऐसा माना जाता है। […]

Read more

श्री कृष्ण जन्मभूमि मथुरा की महिमा और दर्शनीय स्थल

श्री कृष्ण जन्मभूमि मथुरा की महिमा और महत्व मथुरा कृष्ण जन्मस्थली है और उत्तरप्रदेश का एक जिला है | विष्णु के अवतार श्री कृष्ण भारत की जिस भूमि पर जन्मे वो मथुरा की | उनके मामा कंस ने उनकी माँ देवकी और पिता वासुदेव को कारागार में कैद कर रखा था | जब देवकी और वासुदेव के आठवा पुत्र जन्म […]

Read more

वृन्दावन धाम में दर्शनीय स्थल और मंदिर

कृष्ण और राधे के परम का प्रतीक स्थल वृन्दावन धाम | ब्रज का ह्रदय ताज है वृन्दावन जहा राधे कृष्ण की रास लीला कण कण में समाई हुई है | यहा के राजा रानी कृष्ण और राधिका जी है | यहा राधा जी हर क्षण अपने भक्तो की रक्षा करती है |  “वृन्दस्य अवनं रक्षणं यत्र तत वृन्दावनं” | यहा […]

Read more

गोवर्धन परिक्रमा का महत्व

गोवर्धन परिक्रमा का महत्व उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले से 22 किमी की दूरी पर स्थित है श्री गोवर्धन पर्वत को गिरिराज जी महाराज भी कहा जाता है। ब्रज में स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने इन्द्र के बजाय  इसकी पूजा करने की बात कही थी | तब इंद्र देव नाराज हो गये थे और ब्रज भूमि पर जमकर वर्षा कर […]

Read more

भारत की पवित्र धार्मिक नदियाँ

भारत की पवित्र धार्मिक नदियाँ जिन्हें देवी माँ भी कहा जाता है Holy Rivers Of India भारत की पवित्र धार्मिक नदियाँ जिन्हें माँ का दर्जा प्राप्त है | पुराणों में इन्हे लेकर कथाये बताई गयी है | इनकी महिमा और महत्व के बारे में यह पोस्ट जरुर पढ़े | इन सभी नदियों का जल पवित्र होता है जिसमे स्नान से […]

Read more

गंगासागर तीर्थ स्थल की यात्रा

गंगा का जब भारत के पूर्वी सागर से मिलन होता है वो स्थल गंगा सागर के नाम से जानी जाती है | इसे गंगा सागर संगम के नाम से भी जाना जाता है | यह महा नदी बंगाल की खाड़ी से मिलती है |  यह हिन्दूओ के मुख्य तीर्थ स्थलों में से एक है | यह एक 300 वर्ग किमी […]

Read more

तीर्थराज प्रयाग की महिमा और दर्शनीय स्थल

उत्तरप्रदेश के प्राचीनतम तीर्थो में प्रयाग का नाम सबसे ऊपर आता है | यह आधुनिक समय में इलाहाबाद के नाम से जाना जाता है | हमारे प्राचीनतम ग्रंथो में इस धार्मिक शहर के महत्व और महिमा का वर्णन किया गया है | इसे साधू संतो ने तीर्थो के राजा ‘ तीर्थ राज ‘ की संज्ञा दी है | प्रयाग की […]

Read more
1 2 3