रणथम्भौर स्थित त्रिनेत्र गणेश मंदिर

रणथम्भौर गणेश मंदिर शिव पार्वती के पुत्र और प्रथम पूज्य श्री गणेश कलियुग के प्रसिद्ध देवताओ में से एक है . विध्न विनायक चिन्तामण गणेश भी कहलाते है जो अपने भक्तो की सभी कठिनाइयों को दूर करते है | भारत के प्रसिद्ध गणेश मंदिरों में राजस्थान के  सवाई माधौपुर जिले में स्तिथ रणथंभौर त्रिनेत्र गणेश मंदिर एक मुख्य स्थान रखता है […]

Read more

अनोखा मंदिर जहा भक्त चढाते है माताजी को हथकड़ी

हिन्दू मंदिरों में देवी देवताओ को भोग , ध्वजा , नारियल , पुष्प आदि भेट की जाती है पर देश में कुछ ऐसे अनोखे मंदिर है जहा भक्त कुछ अलग ही चीजे भेट में देते है | पहले हमने बताया था की एक काली मंदिर में भक्त ताले चढाते है | ऐसे ही एक मंदिर में गोलू देवता मंदिर जहा […]

Read more

देश में एक मंदिर ऐसा भी, जहां महिला पंडित कराती हैं पूजा

आपने अक्षर देखा होगा की मंदिरों में पुरषों को प्रधानता दी जाती है | मंदिर के पुजारी भी पुरुष होते है पर देश में एक मंदिर ऐसा है जिसका सम्बन्ध त्रेता युग से है और उसमे पुजारी भी एक स्त्री है | यह मंदिर अहिल्या का है जिन्हें उनके पति ने अपने श्राप से पत्थर में बदल दिया था | […]

Read more

खजराना मंदिर इन्दौर का गणेश मंदिर

सिर्फ सिंदूर से बनी हुई है यहा की गणेश प्रतिमा खजराना मंदिर इन्दौर का सबसे प्रसिद्ध गणेश मंदिर है जो  विजय नगर से कुछ दूरी पर खजराना चौक के पास में स्थित है। यह मंदिर अहिल्या बाई होल्कर द्वारा बनाया गया है जिसमे सिर्फ सिन्दूर मुख्य रूप से काम में ली गयी है। मंदिर में अन्य देवी देवताओ की मूर्तियों […]

Read more

शीतला माता का प्रसिद्ध मंदिर गुड़गांव

हरियाणा के साइबर सिटी गुड़गांव में शीतला माता का भव्य और प्रसिद्ध मंदिर स्तिथ है | यह माता  स्वच्छता की देवी कहलाती है और संक्रामक रोगों को दूर करती है |   मंदिर का इतिहास आज से लगभग 500 साल पहले इस स्थान पर माता कृपी सती हुई थी | भरतपुर के राजा ने इस स्थान पर एक भव्य मंदिर […]

Read more

उज्जैन का प्राचीन सिद्धवट मंदिर

उज्जैन का प्राचीन सिद्धवट मंदिर उज्जैन के भैरवगढ़ के पूर्व में शिप्रा नदी के तट पर प्राचीन सिद्धवट का स्थान है। इसे शक्तिभेद तीर्थ के नाम से जाना जाता है। हिंदू पुराणों में इस स्थान की महिमा का वर्णन किया गया है। हिंदू मान्यता अनुसार चार वट वृक्षों का महत्व अधिक है। अक्षयवट, वंशीवट, बौधवट और सिद्धवट के बारे में […]

Read more

चौंसठ योगिनी माता तांत्रिक मंदिर उज्जैन

चौंसठ योगिनी माता मंदिर भारत के धार्मिक और पौराणिक शहरों में उज्जैन (अवंतिका) नगरी को भी प्रमुख स्थान दिया गया है | यहा शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में से एक केंद्र रूप में महाकाल ज्योतिर्लिंग विद्यमान है | यहा एक शक्तिपीठ के रूप में महाकाल मंदिर के पास ही हरसिद्धि देवी का प्रसिद्ध मंदिर है | पर हम आज जिस […]

Read more

यहा हनुमान करते है फैसला , पुलिस और जज नही- बजरंगी पंचायत मंदिर

धर्म हमें अच्छा बुरा सिखाता है | हम हमारे कर्म अच्छे और बुरे फल की प्राप्ति के अनुसार करते है | हमारा पूर्ण विश्वास होता है की हमारे किये गये कर्मो का लेखा जोखा मृत्यु के बाद हमें देना होता है | एक भी मान्यता है की व्यक्ति को अच्छे बुरे कर्मो का फल इस जीवन में ही भोगना होता […]

Read more

उज्जैन के खेडापति हनुमान के चमत्कारी कुण्ड में स्नान से दूर होते असाध्य रोग

उज्जैन के खेडापति हनुमान का  चमत्कारी कुण्ड अवंतिका नगर उज्जैन के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में से एक श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर आगर रोड उज्जैन पर स्थित है| यह उज्जैन से 105 किमी की दुरी पर स्थित है | यह ४०० साल पुराना बताया जाता है | यहा हनुमान जी की प्रतिमा को श्री श्री स्वामी कृपानिवास रसिका-चार्य महाराज ने अपने […]

Read more

पाताल भैरवी मंदिर जहा है 108 फीट का शिवलिंग

पाताल भैरवी मंदिर छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय राजमार्ग पर नागपुर जाने की दिशा में स्थित संस्कारधानी जगह पर  मां पाताल भैरवी का मंदिर आस्था का अनुपम केंद्र बना हुआ है | यहा पाताल भैरवी की रौद्र रूपी प्रतिमा 15 फीट ऊँची है और यह जमीन में 16 फीट की गहराई में है | साथ ही भगवान शिव पूजा का मुख्य प्रतिक शिवलिंग […]

Read more
1 2 3 4 5 10