उज्जैन का प्राचीन सिद्धवट मंदिर

उज्जैन का प्राचीन सिद्धवट मंदिर उज्जैन के भैरवगढ़ के पूर्व में शिप्रा नदी के तट पर प्राचीन सिद्धवट का स्थान है। इसे शक्तिभेद तीर्थ के नाम से जाना जाता है। हिंदू पुराणों में इस स्थान की महिमा का वर्णन किया गया है। हिंदू मान्यता अनुसार चार वट वृक्षों का महत्व अधिक है। अक्षयवट, वंशीवट, बौधवट और सिद्धवट के बारे में […]

Read more

चौंसठ योगिनी माता तांत्रिक मंदिर उज्जैन

चौंसठ योगिनी माता मंदिर भारत के धार्मिक और पौराणिक शहरों में उज्जैन (अवंतिका) नगरी को भी प्रमुख स्थान दिया गया है | यहा शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में से एक केंद्र रूप में महाकाल ज्योतिर्लिंग विद्यमान है | यहा एक शक्तिपीठ के रूप में महाकाल मंदिर के पास ही हरसिद्धि देवी का प्रसिद्ध मंदिर है | पर हम आज जिस […]

Read more

यहा हनुमान करते है फैसला , पुलिस और जज नही- बजरंगी पंचायत मंदिर

धर्म हमें अच्छा बुरा सिखाता है | हम हमारे कर्म अच्छे और बुरे फल की प्राप्ति के अनुसार करते है | हमारा पूर्ण विश्वास होता है की हमारे किये गये कर्मो का लेखा जोखा मृत्यु के बाद हमें देना होता है | एक भी मान्यता है की व्यक्ति को अच्छे बुरे कर्मो का फल इस जीवन में ही भोगना होता […]

Read more

उज्जैन के खेडापति हनुमान के चमत्कारी कुण्ड में स्नान से दूर होते असाध्य रोग

उज्जैन के खेडापति हनुमान का  चमत्कारी कुण्ड अवंतिका नगर उज्जैन के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में से एक श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर आगर रोड उज्जैन पर स्थित है| यह उज्जैन से 105 किमी की दुरी पर स्थित है | यह ४०० साल पुराना बताया जाता है | यहा हनुमान जी की प्रतिमा को श्री श्री स्वामी कृपानिवास रसिका-चार्य महाराज ने अपने […]

Read more

पाताल भैरवी मंदिर जहा है 108 फीट का शिवलिंग

पाताल भैरवी मंदिर छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय राजमार्ग पर नागपुर जाने की दिशा में स्थित संस्कारधानी जगह पर  मां पाताल भैरवी का मंदिर आस्था का अनुपम केंद्र बना हुआ है | यहा पाताल भैरवी की रौद्र रूपी प्रतिमा 15 फीट ऊँची है और यह जमीन में 16 फीट की गहराई में है | साथ ही भगवान शिव पूजा का मुख्य प्रतिक शिवलिंग […]

Read more

भूखी माता का बहुत प्रसिद्ध मंदिर और कथा

उज्जैन में क्षिप्रा नदी के किनारे भूखी माता का बहुत प्रसिद्ध मंदिर है।  इस मंदिर में सिंदूरी रंग में लिपटी हुई दो मूर्तियाँ के रूप में दो देवियां विराजमान है। मान्यता है की ये दोनों बहने हैं। इसमे से एक भूखी माता जो दूसरी देवी का नाम  धूमावती है | दोनों देवियों के नाम पर इस मंदिर को भुवनेश्वरी भूखी […]

Read more

चिंतामण गणेश मंदिर उज्जैन

चिन्ताओ को दूर करेंगे चिंतामण गणेश उज्जैन यानि अवंतिका नगरी  के महाकालेश्वर मंदिर से करीब 6 किलोमीटर दूर ग्राम जवास्या में भगवान गणेश का प्राचीनतम मंदिर चिंतामण गणेश के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर का सम्बन्ध माता सीता से बताया जाता है जिन्होंने रामायण काल में यहा गणेश जी की मूर्ति की स्थापना की थी | तीन गणेश […]

Read more

हिंगलाज मंदिर शक्तिपीठ पाकिस्तान

पाकिस्तान में हिंगलाज माता का मंदिर जो है शक्तिपीठ जब देवी सती हुई तब उनके शरीर के अंग 51 स्थानों पर गिरे और शक्तिपीठ बने | ऐसा ही एक शक्तिपीठ सरहद पार पाकिस्तान बलूचिस्तान में स्थित है | यहा सती का सिर गिरा था | इस शक्तिपीठ में मुस्लिम  सेवा भाव करते है और पाकिस्तान से कई हिन्दू भक्त दर्शन […]

Read more

गुरुवायुर मन्दिर केरल – कृष्ण के बालरूप की पूजा का मंदिर

Guruvayur Temple Of Lord Krishna In Kerala भारत के केरल राज्य के थ्रिसुर जनपद के अंतर्गत  एक प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थस्थल है। यह केरल से लगभग 30 कि.मी. की दूरी पर गुरुवायूर नाम के स्थान आमतौर पर इस जगह को दक्षिण की द्वारका के नाम से भी पुकारा जाता है। गुरुवायुर अपने मंदिर के लिए सर्वाधिक प्रसिद्ध है, जो कई शताब्दियों […]

Read more

मदुरै का मीनाक्षी मंदिर – इन बातो के कारण है प्रसिद्ध

मदुरै का मीनाक्षी मंदिर Madurai Meenakshi Temple  :- मीनाक्षी शब्द का अर्थ है जिसकी आँखे मीन (मछली ) की तरह हो | यह मंदिर  भगवान शिव की जीवनसंगिनी पार्वती का अवतार और भगवान विष्णु की बहन का है । दक्षिण भारत के भव्य मंदिरों की सूची में इस मंदिर को उच्चतम स्थान प्राप्त है | यह अत्यंत सुन्दर और भव्य […]

Read more
1 2 3 8