माँ लक्ष्मी ने शुरू की रक्षा बंधन की परम्परा – पौराणिक कहानी

रक्षा बंधन पर्व पर लक्ष्मी और बलि के पौराणिक कथा Rakhi Festival Story From Puran : पुराणों में कथा के अनुसार एक बार महाबली और महादानी  दैत्य राजा बलि ने गुरु शुक्राचार्य की आज्ञा से महातप रूपी 110 यज्ञ शुरू किये | देवी देवताओ को भय सताने लगा की यदि यह यज्ञ सम्पन्न हो गये तो बलि त्रिलोक विजेता बन […]

Read more

करवा चौथ व्रत की पूजन विधि

Karwa Chouth Poojan Vidhi In Hindi | Worship Method हिन्दू धर्म में सुहागिन स्त्रियों के लिए करवा चौथ व्रत बहुत मायने रखता है | इस कठोर व्रत को करके वे अपने पतिदेव की लम्बी उम्र की कामना करवा माता से करती है | इस दिन शिव परिवार की भी पूजा का विधान है क्योकि सुहागिन महिलाओ के लिए सबसे उत्तम […]

Read more

करवा चौथ व्रत में कौनसी पूजन सामग्री होती है जरुरी

Karwa Chouth Poojan Samgri List In Hindi भारत में रंग बिरंगे भाती भाती के त्यौहार है | यह विविधतापूर्ण देश है | इसी में एक है विवाहित महिलायों के लिए विशेष स्थान रखने वाला करवा चौथ व्रत | भारत में विवाहित महिलाये अपने  परिवार और पति के लिए चौथ माता का व्रत  नियम पूर्वक रखती है | इस व्रत में […]

Read more

2018 में करवा चौथ व्रत कब है

सुहागिन स्त्रियाँ अपने पति की लम्बी उम्र की कामना के लिए पुरे दिन व्रत रखती है |  रात्रि में चंद्रमा को देखकर और अर्ध्य देकर अपना व्रत खोलती है | संध्या के समय करवा चौथ माता के लिए भोग प्रसाद बनाया जाता है |आस पास की महिलाये एकत्रित होकर करवा चौथ व्रत की कहानी सुनती है और माँ की ज्योत […]

Read more

देव शयनी एकादशी 2018 महत्व , पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

देव शयनी एकादशी का महत्व और पूजा विधि Dev Shayani Ekadashi Ka Mahtav or Shubh Muhurat पद्मा एकादशी या देव शयनी एकादशी आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आती है जो इस साल 2018  में 23 जुलाई (सोमवार ) को आने वाली है | देव शयनी एकादशी का महत्व : इस एकादशी का महत्त्व और महिमा भगवान विष्णु […]

Read more

शिव को क्यों पसंद है प्रदोष

भगवान शिव की पूजा अर्चना से सभी मनोकामनाओ की पूर्ति हो जाती है | जिस भक्त पर शिव शंकर की कृपा हो उसे कुछ मांगने की जरूरत ही नही होती , बिन मांगे ही बाबा भोलेनाथ उसे सब कुछ दे देते है | यही कारण है की इन्हे आशुतोष भी कहा जाता है | भगवान शिव के पूजा के मुख्य […]

Read more

एकादशी पर क्या नही करना चाहिए

हमारे हिन्दू धर्म में वैष्णव सम्प्रदाय के लिए एकादशी का बहुत ज्यादा महत्व है | हर माह दो एकादशी आती है एक कृष्ण पक्ष की और दूसरी शुक्ल पक्ष की | इन दोनों में शुक्ल पक्ष में आने वाली एकादशी की महिमा ज्यादा है | एकादशी को हम ग्यारस के नाम से भी जानते है | धार्मिक ग्रंथो से वे […]

Read more

संकट चतुर्थी और श्री गणेश पूजा

देवी देवताओ में सबसे पहले पूजे जाने वाले श्री गणेश को संकट हरण और विध्न विनाशक आदि नामो से जाना जाता है | श्री गजानंद बुद्धि के देवता है | इनकी पूजा के लिए महान दिन संकट चतुर्थी  को बताया गया है | इस दिन जो भक्त मन से श्री गणेश की पूजा करते है उनके सभी कष्ट गणपति बप्पा दूर करते […]

Read more

भैरव अष्टमी पर हुआ भैरव का जन्म

भगवान शिव के सभी अवतारों में भगवान भैरव  को सबसे अधिक जाग्रत देवता के रूप में जाना जाता है | यह पापियों के लिए शनिदेव की तरह दंडनायक की भूमिका निभाते है | इन्हे तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है | बहुत सारे तांत्रिक भैरव के भक्त होते है | उज्जैन में काल भैरव मंदिर  है तो काशी में […]

Read more

अबूझ सावे कब कब आते है

अबूझ सावे शुभ दिन विवाह के

अबूझ सावे ऐसे दिन होते है जिनपे बिना पंडित को पूछे  और पंचांग को देखे मांगलिक कार्य संपन्न किये जाते है | ये दिन स्वयं सिद्ध होते है और इन दिनों को अति शुभ माना जाता है | आइये जाने की कब कब यह अबूझ सावे के दिन आते है | १) बसंत पंचमी : माँ सरस्वती के जन्म का […]

Read more
1 11 12 13 14 15