शिव पुराण कथा से जुड़े 10 नियम

Shiv Puran Ki Katha Padhte Samay Dhyan Rakhe 10 Niyam 10 Rules during Shiv Puran Katha : भगवान शिव की महिमा का गुणगान करने वाला महाग्रन्थ शिव महा पुराण में कई भोलेनाथ से जुडी कथाये आई है । इस पुराण का पाठ आपको शिव धाम में ले जाने में सहायक है । शैव भक्तो के लिए यह किसी गीता से […]

Read more

शिव के जन्म की कथा पुराणों के अनुसार

Lord Shiva Birth Story : शिव के जन्म की कथा कहानी पुराणों से शिव भक्तो के लिए यह पहेली अबूझ है की भगवान शिव शंकर का जन्म कैसे हुआ ? कौन इनके माता पिता थे ? हम सभी यह ज्ञान वेद पुराणों से प्राप्त करते है | पर इस सवाल का जवाब तो कोई भी धर्म शास्त्र सही सही नही […]

Read more

शिवजी को श्राप मिला इसलिए कटा गणेश का सिर

गणेश पुराण में बताया गया है की विध्नो को दूर करने वाले भगवान श्री गणेश का सिर एक श्राप के कारण अलग हुआ था | आइये जानते है इसके पीछे की पौराणिक कथा : एक बार भगवान शिव शंकर ने अपने क्रोध में आकर सूर्य को अपने त्रिशूल से मार गिराया | इस कारण इस समस्त संसार में अंधकार छा […]

Read more

शिवजी का अर्धनारीश्वर रूप

शिवजी का अर्धनारेश्वर रूप

शिव ने शक्ति के साथ क्यों धारण किया अर्धनारीश्वर रूप भगवान शिव और शक्ति का मिलन और इन दोनों के आधे आधे भाग से बना है अर्धनारीश्वर रूप | यह रूप स्त्री और पुरुष का मिश्र रूप है | सिर से लेकर पैर तक आधा भाग स्त्री रूप  से और अन्य आधा भाग पुरुष रूप से बना हुआ है | […]

Read more

शिव त्रिपुरारी क्यों कहलाए

शिव त्रिपुरारी

क्यों कहलाते है शिव त्रिपुरारी : भगवान शिव को उनके भक्त त्रिपुरारी के नाम से पूजते है इसके पीछे शिवपुराण की एक कथा है | शिवपुराण के अनुसार एक बार एक महादैत्य हुआ जिसका नाम था तारकासुर | इन दैत्य के तीन पुत्र हुए जिनके नाम तारकाक्ष, कमलाक्ष व विद्युन्माली था | शिव के पुत्र कार्तिकेय ने तारकासुर का वध […]

Read more

क्यों और कैसे बने भैरव काशी के कोतवाल

काशी के कोतवाल भैरव

काशी के कोतवाल भैरव की कहानी काशी में मनुष्यों के कर्मो के लेख के आधार पर दण्ड और आशीष देना का कार्य काशी के कोतवाल भैरव की करते है | यहा ना तो शनि देव और ना ही यमराज का कार्य है | यह सब विश्वनाथ शिव के ही एक रूप भैरव नाथ का कार्य काज है | यह उन्हें […]

Read more

भैरव के जन्म की कथा और ब्रह्मा का एक सिर काटना

काशी के कोतवाल भैरव की जन्म कथा

भैरव शिव के पांचवे रूद्र अवतार है | इनका अवतरण मार्गशीर्ष मास की कृष्णपक्ष अष्टमी को एक दिव्य ज्योतिर्लिंग से हुआ है | भैरव के अवतरण की कथा कथा के अनुसार एक बार साधुओ ने सभी त्रिदेव और देवताओं से पूछा की आपमें सबसे महान और सबसे श्रेष्ठ कौन है | देवताओं ने सभी वेदों से पूछा तो सभी ने […]

Read more