घर के ध्यान से सुख समृधि का वास

घर में रखे यह ध्यान खुशिया

घर में रखे यह ध्यान सुख समृधि से बढेगा आपका मान सम्मान :

पुराणों में लिखा गया है मनुष्य का घर जिस तरह का रहेगा उसी तरह से उनका जीवन चलेगा | हर कोई चाहता है की घर में सुख सम्पति हो , सभी सदस्य निरोगी हो | घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास हो और नकारात्मक ऊर्जा उस घर को छू भी ना पाए |

देखा जाये तो आजकल की व्यस्त समय में धर्म के लिए समय बहूत कम रह गया है | धर्म आजकल महिलाओ तक या 60 साल की उम्र पार व्यक्तियों तक रह गया है | हम्हे यह जानना चाहिए की धर्म से मनुष्य सद्गुणी बनता है और यह धर्म किसी उम्र का मोहताज नही है |

  • हर उम्र के व्यक्ति को कुछ पल तो अपने आराध्य के लिए निकालने ही चाहिए |
  • घर के मंदिर में हर दिन पूजा पाठ होना चाहिए जिससे घर में नकारात्मकता खत्म हो और घर में देवताओ का वास हो |
  • घर में झाड़ू छिपी हुई रहनी चाहिए और ना ही पैरो में आनी चाहिए |
  • घर में जब भी खाना बने सबसे पहली रोटी देवी देवताओ को भोग लगाकर फिर उसे गाय को खिलानी चाहिए
  • घर में जूते चप्पल इधर-उधर बिखरे हुए नही होने चाहिए , उन्हें क्रम से लगाना चाहिए | ध्यान रहे कोई भी चप्पल उल्टी ना रखी हुई हो |
  • घर के मुख्य द्वार पर सिंदूर से स्वास्तिक और त्रिशूल बनाये जिससे नकारात्मक ऊर्जा उस घर से दूर रहे |
  • सप्ताह में एक दिन पानी में नमक डालकर पोछा  जरुर लगाये |
  • घर के बाथरूम को स्वच्छ रखे और ध्यान रखे की बाथरूम की बदबू घर में ना आये |
  • पूजा घर में पूजा सुबह 6 से 8 तक जुट अथवा कुश का आसन बिछाकर पूर्व या उत्तर दिशा में मूँह  करके करे |
  • बिस्तर पर बैठकर कभी भी भोजन ना करे , ऐसा करने से रात्रि में डरावने सपने आते है |
  • दीपक की लौ या अगरबत्ती या पवित्र अग्नि को कभी भी फूंक मारके ना बुझाये |
  • घर में साफ़ सफाई रखे और भूल कर भी जाले ना लगने दे |
  • पूजा घर में अगर कोई प्रतिष्ठित मूर्ती है तो उसकी पूजा हर रोज निश्चित नियमपूर्वक करे |


यह भी पढ़े

पीपल का पेड़ करेगा लाईलाज बीमारी का ईलाज

घर में लगी तुलसी बताती है आने वाले संकट के बारे में

गरीबी के मुख्य कारण जाने

घर में ना लगाये भूल से भी यह तस्वीरे

हर पूजा में चावल क्यों जरुरी है

शिव और पार्वती के लिए बनी थी सोने की लंका

चमत्कारी और प्रभावी शिव मंत्र

शिवलिंग की पूजा से सब संकटों का नाश

बेलपत्र चढाते समय करे इस मंत्र का उच्चारण

सोमवार को कैसे करे शिव पूजन

जाने शिवजी के सभी मुख्य ज्योतिर्लिंगों के बारे में

द्वादश ज्योतिर्लिंग शिवजी के

5 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.